गढ़वा: चाल धंसी और खेलते -खेलते मिट्टी में समा गए तीन बच्चे..

गढ़वा में चाल धंसने से तीन बच्चों को मौत, मिट्टी में दबे रहने के कारण दम घुटने से गई जान

गढ़वा जिले में बुधवार देर शाम हुई एक घटना में तीन बच्चों की मौत हो गई। धुरकी थाना क्षेत्र के शारदा गांव में चाल धंसने से तीन बच्चों की जान चली गई। इनमें शारदा गांव के कोइरी टोला निवासी राजेश राम की दो बेटी सुप्रिया कुमारी (11 वर्ष )व प्रीति कुमारी (10 वर्ष) तथा सीताराम रविदास का नाती रामाशीष राम (13 वर्ष) शामिल हैं। रामाशीष शारदा गांव स्थित अपने ननिहाल आया हुआ था। उसका पैतृक गांव उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में है।

बताया जा रहा है कि तीनों बच्चों खेल रहे थे और उसी दौरान उक्त घटना घटित हुई है। शारदा गांव के कोइरी टोला में सुप्रिया व प्रीति के घर से करीब सौ मीटर की दूरी पर स्थित तुरा नदी के पास बच्चे खेल रहे थे। जानकारी के मुताबिक, वहीं नदी किनारे एक खेत से गांव के कुछ लोगों ने घर बनाने के दौरान जेसीबी से मिट्टी खोदकर निकली थी। इसके बाद कई ग्रामीणों ने मिट्टी के घर की पोताई के लिए भी मिट्टी वहां से मिट्टी ले गए थे। इसकी वजह से उस जगह पर चालनुमा बेतरतीब गड्ढा बन गया था।

शाम को तीनों बच्चे वहां खेल रहे थे। इस दौरान चाल धंस गई और तीनों बच्चे मिट्टी में दब गए। देर शाम तक जब तीनों बच्चे घर नहीं लौटे तो घरवालों ने उनकी खोजबीन शुरू की। जिसके बाद उनके मिट्टी में दबे होने के बारे में पता चला। चूंकि बच्चे काफी समय से चाल में दबे हुए थे ऐसे में दम घुटने से बच्चों की जान जा चुकी थी। बच्चों को चाल में दबा देख उनके परिजनों में चीख पुकार मच गई। जिसके बाद ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई।

ग्रामीणों ने घटना की सूचना धुरकी थाना में दी जिसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची। इसके बाद मिट्टी में दबे तीनों बच्चों के शव को बाहर निकाला गया। पुलिस ने बच्चों के शव को अपने कब्जे में ले लिया है। उधर, बच्चों के परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल है साथ ही पूरा गांव मर्माहत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *