अमरनाथ गुफा में तैनात जमशेदपुर के सैनिक की मौत..

जमशेदपुर : जम्मू कश्मीर के अमरनाथ में तैनात भारतीय सेना के हवलदार मनोहर कुंकल का दिल का दौरा पड़ने की वजह से निधन हो गया। जमशेदपुर के सर्किट हाउस एरिया के पास बेल्डीह ग्राम में रहने वाले मनोहर कुंकल केवल 42 वर्ष के थे। जानकारी है कि अमरनाथ गुफा के समीप पहाड़ी से नीचे उतरने के दौरान ऑक्सीजन की कमी के बाद उन्हें दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद उन्होनें अपनी आखरी सास ली। मार्च-2021 में ही मनोहर के ट्रूप की पोस्टिंग अमरनाथ में हुई थी। मंगलवार दोपहर मनोहर अमरनाथ गुफा के पास ही तैनात थे।

मनोहर कुंकल की पत्नी शोभा कुंकल ने बताया की पति हमेशा अमरनाथ में ऑक्सीजन की कमी से सांस लेने की समस्या बताते थे। लेकिन वे काम से पीछे नहीं हटे। दो दिन पूर्व ही पति अमरनाथ से नीचे उतरने वाले थे। लेकिन पूरा ट्रूप उतर नहीं पाया। मंगलवार दोपहर करीब 12 बजे पति ने फोन कर कहा था- 27 अगस्त तक जमशेदपुर आऊंगा और पूरा परिवार इंज्वाय करेंगे। पति के छुट्‌टी पर आने की बात से हम सब खुश थे। लेकिन अगले ही दिन मनहूस खबर आई।

मंलगवार शाम उन्हें फोन से पति की मौत की सूचना मिली। उनके पति सेना के 15 महार रेजीमेंट में हवलदार थे। फोन से बताया गया कि उन्हें हार्ट अटैक हुआ उसके बाद बचाया नहीं जा सका। वे चार्ली कंपनी में थे। गुरुवार को उनका पार्थिव शरीर विमान से रांची आएगा, जहां से सड़क मार्ग से जमशेदपुर लाया जाएगा। उसके बाद उनके मूल गांव पश्चिमी सिंहभूम के पोखरिया ले जाया जाएगा, जहां अंतिम संस्कार होगा।

मनोहर कुंकल के दो बच्चे हैं। बड़े बेटे का नाम मोहित कुंकल है, जो 11वीं में पढ़ता है, जबकि बेटी माही कुंकल है, जो सातवीं में पढ़ती है। दोनों ही बेल्डीह चर्च स्कूल में पढ़ते हैं। पत्नी गृहिणी है। मनोहर के पिता सरकारी कर्मचारी थे, जिसके चलते मनोहर जमशेदपुर की बेल्डीह बस्ती में आकर बस गए। उनकी शिक्षा साकची के राजस्थान विद्या मंदिर में हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *