दुमका व बेरमो विधानसभा सीट पर मतदान करवाने के लिए ईवीएम के साथ बूथ पर पहुंचे मतदान कर्मी..

तीन नवंबर को झारखंड की बेरमो और दुमका विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने जा रहे हैं| सोमवार को इन दोनों क्षेत्रों की बूथ के लिए पोलिंग पार्टियां रवाना हुई। देर शाम मतदान कर्मी, अपनी-अपनी तय बूथों पर मतदान करवाने के लिए ईवीएम व अन्य जरूरी सामान के साथ पहुंचे। कोरोना के मद्देनजर, मतदान केंद्रों पर वोटरों के बीच सोशल डिस्टेंस बनाए रखने के लिए गोल घेरे में कतारबद्ध करने की व्यवस्था की गई है।

उधर, चुनाव में दोनों ही विधानसभा सीटों पर मुख्य मुकाबला एनडीए और महागठबंधन के बीच हो रहा है। इस बार दूर-दूर तक कोई तीसरा कोण नजर नहीं आ रहा है।

दुमका में भाजपा की लुईस मरांडी और झामुमो के बसंत सोरेन के बीच मुकाबला होने जा रहा है| वहीं, बेरमो में कांग्रेस के कुमार जयमंगल और भाजपा के योगेश्वर महतो बाटुल के बीच टक्कर होने जा रही है। दोनों ही विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव को लेकर एनडीए और यूपीए ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। ऐसे मेंदोनों ही क्षेत्र में दिलचस्प मुकाबले की उम्मीद की जा रही है।

ज्ञात हो कि, पूर्व मंत्री राजेंद्र प्रसाद सिंह के निधन के बाद से बेरमो विधानसभा सीट खाली हो गई थी। जिसके बाद अब यहां उपचुनाव हो रहा है। महागठबंधन की ओर से राजेंद्र सिंह के बड़े बेटे और इंटक नेता कुमार जयमंगल कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं| दूसरी ओर झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बरहेट और दुमका 2 विधानसभा क्षेत्रों से जीत हासिल की थी। उन्हें एक सीट छोड़ना था, ऐसे में उन्होंने दुमका से त्यागपत्र दिया था। इसकी वजह से दुमका सीट खाली होने पर उपचुनाव हो रहा है। यहां झामुमो नेसुप्रीमो शिबू सोरेन के छोटे पुत्र और हेमंत सोरेन के छोटे भाई बसंत सोरेन को अपना उम्मीदवार बनाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.