झारखंड विधानसभा स्थापना दिवस: BJP विधायक रामचंद्र चंद्रवंशी को मिला उत्कृष्ट विधायक का सम्मान..

झारखंड विधानसभा आज तीसरे दशक में प्रवेश कर गया है। विधानसभा का 21वां स्थापना दिवस आज मनाया गया। राज्यपाल रमेश बैस और CM हेमंत साेरेन कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए । कार्यक्रम में विधानभा के अध्यक्ष रबींद्र नाथ महतो ने कहा कि 21वां वर्ष किसी व्यक्ति के जीवन में वह अवस्था होती है जब वह समाज और राष्ट्र की जिम्मेदारी अपने कंधों पर लेता है। युवा CM की अगुआई में राज्य अपनी इस जिम्मेदारी के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्होंने बताया कि अब वो वक्त आ गया है जब हमें राज्य राज्य गठन के उद्देश्यों की प्राप्ति की समीक्षा भी करनी चाहिए। इसके अलावा उन्हों ई-विधानसभा, ऑनलाइन प्रश्नोत्तर प्रसारित करने के संबंध में विधानसभा की उपलब्धियों की भी जानकारी दी।

समाराेह में विधायक रामचंद्र चंद्रवंशी काे बिरसा मुंडा स्मृति उत्कृष्ट सम्मान से सम्मानित किया गया। उत्कृष्ट विधायक को शॉल, प्रशस्ति पत्र और 51 हजार रुपये देकर सम्मानित किया गया। उत्कृष्ट विधायक चुने जाने के बाद विश्रामपुर से BJP के विधायक रामचंद्र चंद्रवंशी ने बड़ी घोषणा की है। उन्होंने विधानसभा परिसर में आयोजित विधानसभा स्थापना दिवस के अवसर पर एेलान किया है कि वे शहीद के बच्चों की पढ़ाई का जिम्मा उठाएंगे।

वे उन्हें प्राइमरी से लेकर इंजीनयरिंग तक की शिक्षा फ्री में कराएंगे। वे अपने ट्रस्ट के माध्यम से उन्हें शिक्षित बनाएंगे। शिक्षा से लेकर भोजन तक की व्यवस्था वो खुद कराएंगे। इस दौरान रामचंद्र चंद्रवंशी ने कहा- “यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम विधायिका की सुरक्षा कैसे करते हैं।

विधायका जितनी कमजोर होगी कार्यपालिका उतनी ही निरंकुश होगी। कार्यपालिका को अपने कार्यों के प्रति उत्तरदायी बनाने से ही विधायिका की गरिमा बढ़ेगी और लोकतंत्र के प्रति जनता में विश्वास बना रहेगा।’ इस दौरन उन्होंने कहा-“उन्होंने अपने जीवन में कई संघर्ष देखे हैं। सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों दलों के विधायक रहे हैं। मेरी प्राथमिकता हमेशा विधानसभा की गरिमा को बनाए रखना और जनता की निष्ठा पर खरे उतरना रहा है।’

विधायका में जनता का सम्मान रखना सबसे बड़ी चुनौती है
BJP विधायक ने कहा कि अगर विधानसभा में अव्यवस्था में उत्पन्न करेंगे तो अपनी बात नहीं रख पाएंगे। विधानसभा में व्यवधान उत्पन्न नहीं हो इसका ख्याल हम सबको रखना चाहिए। ताकि हम जनता का सम्मान रख सकें. आज के विधायक और विधायका में जनता का सम्मान रखना सबसे बड़ी चुनौती है। यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम कैसे इसकी सुरक्षा करते हैं। सहति और असहति लोकतंत्र का अभिन्न अंग है। सभा बिना बाधा के कैसे चले हम सब की जवाबदेही है।

ज्योतिष की बात मानकर राजनीति में आए थे चंद्रवंशी
रामचंद्र ज्याेतिष की सलाह पर 1985 में राजनीति में आए। 1985 से ही वे चुनाव लड़ रहे हैं। वे अविभाजित बिहार में भी विधायक बने थे। इसके बाद लगातार कई बार विधायक और मंत्री बने। उत्कृष्ट विधायक सम्मान के लिए चुने जाने के बाद दैनिक भास्कर से अपनी कहानी शेयर करते हुए कहा कि वे 1985 में बनारस गए थे। पूजा-पाठ के बाद उन्हाेंने बनारस में ज्योतिषी नीलकंठ शास्त्री को अपना हाथ दिखाया। उन्हाेंने हाथ देखते ही कहा, ‘अरे भाई तुम नाैकरी में बड़ा बाबू का काम क्याें कर रहे हाे। तुम्हारी हाथाें की रेखा बताती है कि तुम्हें राजनीति में काफी ऊपर तक जाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *