देवघर एम्‍स में OPD का उद्घाटन, मिलेगा बेहतर इलाज..

देवघर के एम्स में मंगलवार से ओपीडी का शुभारंभ हो गया। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से शुभारंभ किया। अपने ऑनलाइन संबोधन में उन्होंने कहा कि अभी पवित्र श्रावण मास खत्म हुआ ही है। देवघर का अपना महत्व है। श्रावण मास में लाखों श्रद्धालु यहां आते हैं। देवघर में आज न सिर्फ एम्स ओपीडी का उद्घाटन हो रहा है, बल्कि नाईट सेल्टर का भी उद्घाटन हुआ है। इससे दूर-दराज के गांवों से एम्स में इलाज कराने के लिए पहुंचने वाले लोगों को आश्रय मिलेगा। यहां आने वाले लोग यहां रुककर इलाज कराने के बाद वापस अपने घर लौटेंगे।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देवघर एम्स का शिलान्यास 25 मई 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था और आज उद्घाटन का अवसर उन्हें मिला है। कहा कि एम्स की स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ न सिर्फ देवघर जिले की 16 लाख आबादी को मिलेगी बल्कि झारखंड के 3 करोड़ 19 लाख की आबादी को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में देशवासियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया करायी जा रही हैं।

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि भगवान बिरसा की धरती पर झारखंड के लोगों को बेहतर चिकित्सा सुविधा एम्स में मिलेगी। इलाज के लिए उन्हें बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। एम्स की टीम से उन्होंने कहा कि वे सेवाभाव से काम कर जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरें। देवघर एम्स में ओपीडी की सेवा के लिए 30 रुपये में रजिस्ट्रेशन होगा। जांच के दौरान मरीजों को दवा दी जाएगी। एक बार रजिस्ट्रेशन कराने पर मरीज साल भर तक इलाज करा सकेंगे। फिलहाल 20 से अधिक रोगों की जांच होगी।

देवघर एम्‍स में रोजाना 200 मरीजों का रजिस्ट्रेशन किया जाएगा। देवघर एम्स में डॉक्टरों का ड्यूटी रोस्टर तैयार कर लिया गया है। डॉक्टरों के नाम व विभाग देवघर एम्स की वेबसाइट www.aiimsdeoghar.edu.in में भी है। ओपीडी सुविधाओं में दवा और इसकी संबद्ध विशेषताएं शामिल होंगी – सामान्य चिकित्सा, पल्मोनोलॉजी (टीबी और श्वसन रोग), मनोरोग, त्वचाविज्ञान (त्वचा), शल्य चिकित्सा और संबद्ध विशेषताएं – सामान्य सर्जरी, हड्डी रोग, ईएनटी, नेत्र विज्ञान, बाल रोग – टीकाकरण नवजात और बच्चे, प्रसूति और स्त्री रोग, दंत चिकित्सा, विकृति विज्ञान और सूक्ष्म जीव विज्ञान, रेडियोलॉजी शामिल हैं। डॉक्टरों को अगर लगेगा कि मरीज दवा से ठीक हो सकते हैं तो उन्हें रियायत दरों पर रैन बसेरा बिल्डिंग में अमृत फार्मेसी से दवाएं दी जाएंगी। अलग-अलग दवाओं में 60 फीसदी तक छूट मिलेगा।

सभा को केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री के अलावा एम्स परिसर में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के प्रतिनिधि मंत्री हफीजुल हसन, सांसद निशिकांत दुबे, विधायक नारायण दास सहित एम्स के आला अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *