झारखंड के कांग्रेसी नेताओं को UP पुलिस ने बॉर्डर पर रोका, पांच घंटे सड़क जाम, फिर वापस लौटे..

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जा रहे झारखंड के कांग्रेसी नेताओं को उत्तर प्रदेश की पुलिस ने झारखंड-उत्तरप्रदेश की सीमा पर विंढमगंज में रोक दिया है। कांग्रेसी नेताओं का जत्था रात करीब 2 बजे विंढमगंज पहुंचा था। लेकिन उत्तर प्रदेश सीमा पर तैनात पुलिस ने इन्हें बॉर्डर पर ही रोक दिया। इस दौरान इन कांग्रेसी नेताओं की पुलिस के साथ तीखी बहस भी हुई। उत्तर प्रदेश पुलिस ने झारखंड से उत्तर प्रदेश में प्रवेश करने वाली सभी सीमाओं को सील कर रखा था। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में अपने आला नेताओं का साथ देने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर के नेतृत्व में जा रहे राज्य के दो मंत्री व तीन विधायकों सहित दर्जन भर से ऊपर प्रदेश स्तरीय कांग्रेसी नेताओं को यूपी पुलिस ने विंढमगंज सीमा पर ही रोक दिया। यूपी प्रशासन ने उत्तर प्रदेश सीमा में कांग्रेसी मंत्रियों, विधायकों व नेताओं को प्रवेश नहीं करने दिया। करीब 5 घंटे बाद मंत्री, विधायक व कांग्रेसी नेता उत्तर प्रदेश सरकार व प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए वापस लौट गए।

बताते चलें कि उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में किसानों की मौत के बाद अपने आला नेताओं को आंदोलन में सहयोग करने कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर के नेतृत्व में राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, कृषि पशुपालन एवं सहकारिता मंत्री बादल पत्रलेख, मांडर विधायक सह कांग्रेस के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष बंधु तिर्की, रामगढ़ विधायक ममता देवी, कोलेबिरा विधायक नमन विक्सल कोंगाड़ी, महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्षा गुंजन सिंह, प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष शहजादा अनवर, राजीव रंजन प्रसाद, मानस सिन्हा, संजय लाल पासवान, अमूल्य नीरज खलखो, सतीश पाल, गंजनी, जयशंकर पाठक, कुमार राजा, जगदीश साहू, जिला अध्यक्ष मंजूर अंसारी, प्रमोद दुबे, जैश रंजन पाठक, गढ़वा जिला अध्यक्ष अरविंद तूफानी सहित अन्य कांग्रेसी नेता बुधवार की रात करीब दो बजे झारखंड व उत्तर प्रदेश की सीमा विलासपुर पहुंचे।

वहां यूपी पुलिस ने उत्तर प्रदेश की सीमा में उन्हें प्रवेश करने से रोक दिया। यूपी पुलिस को सूचना मिली थी कि झारखंड के मंत्री, विधायक सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसी नेता लखीमपुर खीरी जाने के लिए विंढमगंज में यूपी सीमा में प्रवेश करेंगे। सूचना के आलोक में उत्तर प्रदेश पुलिस ने रात 11 बजे से ही सीमा को सील कर उस स्थल को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया था। झारखंड के मंत्री, विधायक व कांग्रेसी नेता सड़क पर बैठकर नारेबाजी करने लगे। गुरुवार की सुबह 7 बजे सोनभद्र के अपर जिलाधिकारी राकेश सिंह सीमा पर पहुंचे और मंत्री, विधायक व अन्य कांग्रेसी नेताओं को किसी भी कीमत पर सीमा में प्रवेश नहीं करने देने की बात कही। मजबूर होकर लखीमपुर खीरी जा रहे झारखंड के मंत्री, विधायक व सभी कांग्रेसी नेता वापस लौट गए।

राज्य के मंत्री, विधायक व कांग्रेसी नेताओं को उत्तर प्रदेश सीमा में प्रवेश करने की अनुमति नहीं मिलने पर सभी जनप्रतिनिधियों व कांग्रेसी नेताओं ने राष्ट्रीय राजमार्ग 75 पर बैठकर जाम कर दिया। इस कारण बुधवार की रात 2 बजे से गुरुवार की सुबह 7 बजे तक राष्ट्रीय राजमार्ग 75 पर वाहनों का परिचालन बंद रहा। सुबह 7 बजे तक जाम लगा रहा। जब मंत्री, विधायक व कांग्रेसी नेता वापस हुए तब सड़क जाम हटा और एनएच पर आवागमन प्रारंभ हो सका। इस बीच राष्ट्रीय राजमार्ग 75 के दोनों तरफ लंबी दूरी की गाड़ियों का लगभग दो किलोमीटर तक लंबी कतार लग गई। कांग्रेसी नेता सड़क पर ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के विरुद्ध नारे लगाते रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *