वन नेशन वन राशन कार्ड योजना का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं प्रवासी मज़दूर..

झारखंड के करीब 25 लाख लाभुकों को वन नेशन वन राशन के तहत लाभ नहीं मिल पा रहा है | ये ऐसे लाभुक हैं जिनका कार्ड अभी तक आधार नंबर से लिंक नहीं कराया गया है | इन लाभुकों में बड़ी संख्या प्रवासी मजदूरों की है जो दूसरे राज्य में काम कर रहे थे | लेकिन अब वो वन नेशन वन राशन कार्ड योजना के तहत राशन उठाना चाहते हैं | ऐसे प्रवासी श्रमिकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है | आपको बता दें कि अभी तक राज्य से पलायन हुए लाखों श्रमिकों में से सिर्फ सौ लोगों को ही इस योजना का लाभ मिल पाया है |

वहीं , खाद्य-आपूर्ति विभाग ने बताया है कि ये ऐसे लाभुक हैं जिन्हें खुद अपना आधार नंबर कार्ड के साथ लिंक करना है | इस मामले में विभागीय निदेशक डी तिर्की बताते हैं कि राज्य में आधार सिडिंग का काम चल रहा है | इनमें अधिकतर ऐसे लोग हैं जिनके पास गलत कार्ड, नाम व आधार संख्या है,इस वजह से इनका आधार सीड भी नहीं हो पा रहा है | आगे उन्होंने बताया कि अभी करीब 70 प्रतिशत से अधिक लोगों का आधार लिंक किया जा चुका है | अधिकांश जो लोग गलत तरीके से राशन ले रहे थे | खासकर उन्हें ही परेशानी हो रही है |

दरअसल ,कोरोना काल में बायोमैट्रिक सिस्टम से राशन देना बंद कर दिया गया था | पहले ऑफलाइन राशन दिया जा रहा था | इस वजह से लोगों को आधार लिंक की समस्या नहीं आ रही थी | लेकिन जैसे ही बायोमैट्रिक सिस्टम से लाभुकों को ऑनलाइन राशन दिया जाने लगा उसके बाद से इस समस्या का सामना लोगों को करना पड़ रहा है |हालांकि , विभाग ने साफ़ कहा है कि बिना बायोमैट्रिक के किसी को अनाज नहीं दिया जाएगा | लाभुकों को अपना बायोमैट्रिक सिस्टम के लिए आधार संख्या को अपडेट करने को निर्देश दिया गया है | इसके बाद ही राशन दुकानों से लाभुकों को राशन मिल पाएगा | आपको बता दें कि आधार संख्या के आधार पर ही लाभुक के मोबाइल पर संदेश आता है और उसी पॉश मशीन से राशन मिलता है | यह इसलिए भी जरूरी किया गया है ताकि सही लाभुकों को उसके हक का राशन मिल सके | वहीं , इसमें फर्जीवाड़े को पूरी तरह से रोका जा सके |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *