सीडीएस जनरल बिपिन रावत की मौत से सदमे में झारखंड..

तमिलनाडु के कुन्नूर में बुधवार को बड़ा हादसा हुआ। चीफ आफ डिफेंस स्टाफ ( CDS) बिपिन रावत, उनकी पत्नी समेत अन्य अधिकारियों को ले जा रहा सेना का हेलिकाप्टर क्रैश हो गया। इस हादसे में रावत समेत 12 लोगों का निधन हो गया। इस घटना पर झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गहरा दुख जताया है। उन्होंने कहा है कि हादसे में प्राण गंवाने वाले सभी लोगों के परिवार के प्रति उनकी सहानुभूति है। उनकी संवेदना मृतकों के परिजनों के साथ है। वभि झारखंड के राज्यपाल ने भी दुःख जताते हुए कहा जनरल बिपिन रावत जी महान देशभक्त व उत्कृष्ट सैनिक थे जिन्होंने असाधारण साहस और लगन से देश की सेवा की। सशस्त्र बलों और सुरक्षा तंत्र के आधुनिकीकरण में उनका महत्वपूर्ण योगदान है। ये देश उनकी असाधारण सेवा को कभी भी नहीं भूलेगा। विनम्र श्रद्धांजलि।

 

इस दुखद हादसे ने झारखंड समेत पूरे देश को झकझोर कर रख द‍िया है। झारखंड के व‍िभ‍िन्‍न ज‍िलों में हर समुदाय के लोगों ने भारतीय सेना के अध‍िकार‍ियों की मौत पर गहरा दुख जताया है। झारखंड के पर‍िवहन मंत्री चंपई सोरेन, स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री बन्‍ना गुप्‍ता, झरिया की विधायक पूर्णिमा नीरज सिंहऔर पूर्व मुख्‍यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने भी इस घटना पर दुख जताया है। मृत आत्‍माओं के प्रत‍ि शोक प्रकट करते हुए उनके स्‍वजन को दुख सहने की ईश्‍वर से प्रार्थना की है।

 

बाबूलाल मरांडी ने कहा क‍ि इस घटना से पूरा देश दुखी है। वहीं, चंपई सोरेन ने एक टवीट कर कहा है कि भारत के पहले चीफ आफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत जी के निधन की दुखद खबर मिली है। ईश्‍वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। स्‍वजन को यह दुःख सहने की शांति दें। ॐ शांति।

 

बता दें की CDS बिपिन रावत की यादें झारखंड से भी जुड़ी हैं। पत्नी मधुलिका रावत के साथ 4 जनवरी, 2019 को गुमला जिला के चैनपुर प्रखंड आये थे। उस समय उन्होंने वर्ष 1971 के युद्ध के हीरो परमवीर चक्र विजेता शहीद अलबर्ट एक्का की पैतृक प्रखंड जारी को वीर भूमि का दर्जा दिये थे। बुधवार को अचानक के कुन्नूर में हुए हेलिकॉप्टर हादसे के बाद गुमला के लोग जनरल बिपिन रावत व उनकी पत्नी मधुलिका रावत को याद कर रहे हैं।

चैनपुर प्रखंड आकर CDS बिपिन रावत ने कहा था कि आओ झुककर उन्हें सलाम करें। जिनके हिस्से में ये मुकाम आया है। खुशनसीब होते हैं, वे सैनिक, जिनका खून देश के काम आता है। चैनपुर में उन्होंने शहीद अलबर्ट एक्का की पत्नी बलमदीना एक्का (अब स्वर्गीय) को 51 हजार रुपये का चेक सहित 26 वीर नारियों व भूतपूर्व सैनिकों को 10-10 हजार रुपये का चेक देकर सम्मानित किये थे। चैनपुर प्रखंड के बारवे हाई स्कूल मैदान में भारतीय सेना द्वारा सम्मान समारोह आयोजित किया गया था। जिसमें झारखंड राज्य के सभी जिलों के भूतपूर्व सैनिक, वीर नारी, विभिन्न युद्धों में शहीद हुए जवानों के परिजन पहुंचे थे। जिनसे जनरल रावत व उनकी पत्नी मिले थे। मंच से उतरकर जनरल रावत व उनकी पत्नी सभी लोगों से मिले थे। हर एक भूतपूर्व सैनिक का हालचाल पूछे थे। जनरल रावत व उनकी पत्नी ने सभी वीर नारियों व भूतपूर्व सैनिकों के साथ एक पंक्ति में बैठकर फोटो खींचवाये थे। कई पत्रकारों से भी फोटो खिंचवाते हुए उन्होंने कहा था कि झारखंड को सुंदर राज्य बनाने के लिए सभी पत्रकार अच्छी-अच्छी बातों को लिखें। जनरल रावत ने गुमला के चैनपुर आगमन के बाद वापस जाते-जाते कहा था कि मैं अपना दिल छोड़कर जा रहा हूं और झारखंड वासियों की यादें लेते जा रहा हूं।-

दो साल पहले रामगढ़ भी आए थे सीडीएस विपिन रावत..
दो साल पहले 25 सितंबर 2019 को भारतीय सेना के सीडीएस विपिन रावत रामरगढ के सैनिक छावनी स्थित पंजाब रेजिमेंटल सेंटर में भी आए थे। उस दिन उन्होंने बतौर थल सेनाध्यक्ष देश में स्थित पंजाब रेजिमेंट की दो नई बटालियन 29 पंजाब व 30 पंजाब को उनकी बहादुरी, कर्मठता व चुनौती भरे माहौल में सफलता पूर्वक सेवा देने के लिए राष्ट्रपति निशान (प्रेसिडेंट कॉलर्स) प्रदान किया था। देश भर के सेना के वरीय अधिकारी, सेवानिवृत अधिकारी, जवान व अन्य अतिथिगण इस ऐतिहासिक क्षण के गवाह बने थे। उस दिन पंजाब रेजिमेंटल सेंटर के किलाहरि ड्रील मैदान में थल सेनाध्यक्ष की मौजूदगी में पूरे जोश व उमंग के साथ झमाझम बारिश के बीच जाबांज जवानों ने राष्ट्रपति निशान परेड का शानदार प्रदर्शन किया था। तमिलनाडू में हेलीकॉप्टर दुर्घटना में उनकी मौत की खबर पाकर आज रामगढ़ सैनिक क्षेत्र के पंजाब रेजिमेंटल सेंटर व सिख रेजिमेंटल सेंटर के सैन्य अधिकारियों व जवानों में शोक की लहर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *